Ads (728x90)



हमारे हिन्दू धर्म में शादी सबसे महत्वपूर्ण बंधन हैं शादी तय होने के बाद लड़का और लड़की दोनों के घर में खुशियॉ की लहर सी दौड जाती है गोद भराई के बाद सबसे पहली रस्म लग्न या सगाई होती है लग्न का कार्यक्रम लड़की के घर तथा सगाई का कार्यक्रम लड़के के घर होता है 


लग्‍न की रस्‍म - Lagn Ki Rasm

शादी के सभी मांगलिक कार्य में सर्वप्रथम भगवान गणेश का तथा भगवान शिव और माता पार्वती का पूजन किया जाता है लग्न का कर्यक्रम लड़की के घर होता है इस दिन लड़की के घर में आटे से चौक बनाकर उस पर मिट्टी् का कलश रख कर उसके सामने लड़की को बिठाया जाता हैं फिर लड़की के पिताजी या भाई लड़की की गोद में लग्न का सामान रखते हैं उसके बाद पंडित जी द्वारा शुभ महूर्त में लग्नपत्रिका व् पीली चिट्ठी् लिखी जाती हैं लग्नपत्रिका में चावल हल्दी सुपारी तथा चांदी का सिक्का रखकर लग्नपत्रिका तथा लग्न का सामान लेकर लडकी पक्ष वाले  लड़के के घर सगाई करने जाते हैं 

सगाई की रस्‍म - Sagai Ki Rasm

सगाई की रस्म लड़के के घर में बहुत धूम धाम से मनाई जाती है लड़की के घरवाले तथा रिश्तेदार लड़के के घर सगाई करने जाते हैं लड़के वाले लड़की वालों का स्वागत बहुत आदर के साथ करते हैं यहाँ भी सबसे पहले गणेश जी का पूजन किया जाता है इसके बाद सगाई का कार्यक्रम शुरू होता है लड़की के भाई या पिताजी लड़के का तिलक करते है और सगाई का सामान देते हैं  सगाई के सामान में 5 बर्तन 5 कपडे 1 नारियल 1 अंगूठी, मिठाई, फल ,मेवा आदि होता है ये सामान लड़का अपनी माँ की गोद में रखता है उसके बाद लग्न सगाई के गीत गाये जाते है तथा लड्डू तथा बताशे बाटें जाते हैं




Post a Comment