Ads (728x90)



शादियों में बहुत रस्मे होती है उनमे से एक है गेंहू बनाने की रस्म यह रस्म शादी तय होने के बाद और लग्न सगाई के बाद की जाती हैं शादी से पहले किसी शुभ दिन यह रस्म की जाती है यह रस्म लड़का और लड़की दोनों के यहाँ होती हैं इस दिन घर और मोहल्ले की सारी महिलाये मिल कर गेंहूँ साफ़ करती हैं और गीत भी गाती हैं इसमें पांच या सात सूप की पूजा होती है और कलावा बांधते हैं फिर गेंहू बनाते है और महिलाएं गीत गाती हैं फिर सबको बताशे बांटे जाते हैं

Gehun Banane ki Rasm


गेंहू बनाने की रस्म - Gehun Banane ki Rasm

तेरा झूठा मोह जगत में तोते से बोली मैना
गैरों से मतलब क्या है अपनों से बच के रहना

श्री राम हुए वनवासी अपनो से धोखा खाया
वो मोसी भी अपनी थी जिसने वनवास दिलाया
सब आनी जानी माया सुख है तो दुःख भी सहना
गैरो से मतलब क्या है अपनों से बचके रहना

श्री कृष्ण हुये अवतारी जाने जन्म जेल में पाया 
मामा ही दुश्मन बन गया था अपना नही पराया
बहन को जेल भिजवाया ना माना किसी का कहना
गैरो से मतलब क्या है अपनों से बचके रहना

रावण विद्वान् हुआ था अपनों से धोखा खाया
वो भाई भी अपना था जाने सारा भेद बताया
प्रहलाद ने धोखा खाया पद गया अग्नि में दहना
गैरो से मतलब क्या है अपनों से बचके रहना

                                 



Post a Comment