Ads (728x90)



भारत एक विशाल देश है यहाँ भिन्न भिन्न संस्कृति के लोग रहते है हिन्दू समाज में विवाह एक बहुत महत्वपूर्ण और पवित्र बंधन है हिन्दू विवाह में बहुत रस्म होती है हर एक रस्म का अलग - अलग महत्व होता है

Haldi Ki rasam

हल्दी की रस्म -Haldi Ki rasam

हिन्दू विवाह में तरह-तरह के रीति-रिवाजों तथा परंपरा होती हैं इनके बारे में जानने के लिए दुनिया भर के लोग उत्साहित होते हैं भारतीय शादी की परंपरा को विदेशों में भी लोग बहुत पसंद करते हैं अलग-अलग संस्कृति के लोग अपनी शादी में अपने तरीके से रस्में तथा रीती रिवाज़ करते हैंं उनमे से एक रस्म है हल्दी की रस्म यह रस्म लड़का तथा लड़की दोनों के घर पर होती है शादी में हल्दी के शगुन को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। शादी की रस्मे कई दिनों पहले ही इसे चालू हो जाती हैंं और बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है शादी से हल्दी लगाने की प्रथा जोड़ने के पीछे भी यही सब कारण है भारतीय शादी बिना हल्दी के अधूरी मानी जाती हैं शादी में हल्दी दूल्हा और दुल्हन के चेहरे के साथ – साथ शरीर के कई हिस्सों पर लगाई जाती है ऐसा माना जाता है कि हल्दी दुल्हन और दूल्हे को बुरी नजरों से बचाने के लिए लगाई जाती है हल्दी रस्म होने के बाद दूल्हे और दुल्हन को घर से बाहर नहीं निकलने दिया जाता है हल्दी की रस्म मे सबसे पहले आँगन मैं चौक लगते है फिर उस पर एक मिट्टी् का कलश रखते है एक लकडी की पटली पर दूल्हा , दुल्हन को बिठाकर सब औरतें मिलकर दूल्हा दुल्हन को हल्दी लगाती है फिर बहन आकर आरती करती और सब महिलाये मिलकर हल्दी के गीत गाती है



Post a Comment