Ads (728x90)



महिलाओं के जीवन में 16 श्रृंगार उनके सौभाग्यशाली होने का प्रतीक होता है महिलाओं का नाक में नथ (Nose Ring ) पहनना बहुत ही पुरानी परम्परा है। नथ (Nath) सभी धर्मों की महिलाए तथा लडकियां पहनती है आजकल के दौर में नाक में नथ (Nose Ring ) पहनना एक फैशन बन गया है आइये जानते है 16 श्रृंगार में नथ का महत्व

 16 श्रृंगार - नथ या नथनी का  महत्व - Importance of Nose Ring - 16 Shringar  

नथ (Nose Ring) भारतीय समाज महिलाओं के लिए कितनी अहमियत रखती है यह वह महिलाएं जरूर जानती हैं जो आज भी अपनी संस्कृति से आज भी जुड़ी हुई हैं ऐसा माना जाता है की नाक में नथ (Nose Ring) शादीशुदा महिलाओं के लिए सौभाग्यशाली होने का प्रतीक होती है मुगलकाल में महिलाए ऐसा मानती थी की नथ के बिना श्रृंगार अधूरा रहता है नथ पहनने की प्रथा भारत के हर राज्य में है नथ को भिन्न भिन्न प्रकार की नथ पहने की प्रथा है ऐसी मान्यता है की अगर नाक को एकदम बीच में सही जगह पर छेद किया जाए तो महिलायें सुन्दर दिखती है तथा उसकी आँखों की रौशनी भी बढती है तथा महिलाओं को मासिक धर्म के समय होने वाले दर्द भी कम झेलने पड़ते है वैज्ञानिकों का मानना है की महिलाओं की नाक की कुछ नस स्त्री के गर्भ से जुडी होती है  इसलिए महिलाओं की नाक हमेशा बाई ओर छेदी जाती है  क्योंकि उस जगह की नसें नारी के महिला प्रजनन अंगों से जुडी हुई होती हैं नाक के इस हिस्से पर छेद करने से महिला को प्रसव के समय भी कम दर्द का सामना करना पड़ता है ऐसा माना जाता है की  धर्म के हिसाब से महिला को 16 साल की उम्र के बाद तक अपनी नाक जरुर छिदवा लेनी चाहिये इसके अलावा हिंदू धर्म के अनुसार नथ को माता पार्वती को सम्मान का प्रतीक माना जाता है इसलिए भी महिलाए नथ पहनती  है

Tag - Scientific reasons of wearing 16 shringar items ,Solah Shringar,What is Solah Shringar Significance of Wearing Nose Rings in Indian Culture



Post a Comment