Ads (728x90)



हिन्दू विवाह में तरह-तरह के रीति-रिवाजों तथा परम्पराएँ होती हैं वैसे तो शादियों में सबके यहाँ अगल-अलग प्रकार की रीती-रिवाज होते है लेकिन कुछ रिवाज सबके यहाँ एक जैसे होते है आयते जानते है उन् सभी रीती-रिवाजों  के बारे में
 Achhuta Poojan Ki Rasm Tatha Geet

अछुता पूजन की रस्म तथा गीत  - Achhuta Poojan Ki Rasm Tatha Geet

वैसे तो शादी की रस्मे कई दिनों पहले ही शुरू हो जाती हैंं और रतजगा के अगले दिन अछुता पूजन या तेल चढाने की रस्म की जाती है  जिसमे स्वामी अछुता की पूजन तथा गीत गाये जाते है यह रस्म लड़का तथा लड़की दोनों के घर पर होती है इस दिन पांच सुहागन महिलाओं को हथलगुन बनाया जाता है सभी हथलगुन को हरी लाल चूड़िया पहनाई जाती है जो मिलकर वर तथा कन्या को हल्दी लगाती है वर तथा कन्या को एक पटली पर बिठाया जाता है वर के पास किसी छोटी लड़की तथा कन्या के पास कोई छोटा लड़का बिठाया जाता है सभी महिलाए मिलकर वर,कन्या के हल्दी तथा तेल लगाती है और हल्दी के गीत गाती है हल्दी लगने के बाद वर तथा कन्या  की बहन उसकी आरती करती हैत था रोली से वर तथा कन्या के तिलक किया जाता है जिसे मरूअत कहा जाता है महिलाए मरूअत के गीत गाती है फिर वर तथा कन्या की भाभी आकर कालाज लगाती है जिसका नेग दिया जाता है उसके बाद एक सूप में खिकड़ी ,पुआ,लड्डू,वर तथा कन्या के हाथ से पीछे डलवाते है अछूते के दिन ही वर तथा कन्या की माँ जिसे कजैतिन कहते है अपने देवताओं के नाम का हल्दी का थापा रखती है जिसके नीचे चौक बनाकर गेंहू डालते है इसी दिन खाने में कढ़ी,भात,चावल,मीठे पुए,तथा खिकड़ी बनती है इसी से अछुता पूजन किया जाता है 2 -2 रोटियां तथा उन पर एक खिकड़ी एक चंदिया ,एक पुआ ,तथा थोड़े से कढ़ी चावल रखे जाते है फिर सभी हथलागुन तथा कजैतिन मिलकर स्वामी अछुता का पूजा करती है

स्वामी अछुता के गीत 

तुम मत जानी स्वामी गोबर अछुतो है 
गोबर बिगारो गुबरीला ने 
तुम मत जानी स्वामी अन्न  अछुतो है 
अन्न  बिगारो अन्न के कीड़ा ने 
तुम मत जानी स्वामी नारी अछूती  है
,नारी बिगारी घर के पुरुष ने     
तुम मत जानी स्वामी बहु  अछुती  है,
बहु बिगारी घर के बेटा  ने 
तुम मत जानी स्वामी बेटी  अछुती  है, 
बेटी बिगारी  घर के जमाई  ने 
तुम मत जानी स्वामीपानी अछुतो है 
पानी  बिगारो जल की मछली ने   

Tag-अछुता पूजन की रस्म तथा गीत  - Achhuta Poojan Ki Rasm Tatha Geet



Post a Comment