Ads (728x90)



  Mata ke Sone Ttatha Vidaai Ke Geet

माता के सोने तथा विदाई के गीत - Mata ke Sone Ttatha Vidaai Ke Geet

माता का विदाई गीत  

धानु भगत जाती कर देओ विदा की सेवा तेरी पूर्ण भई 
पवन जाती कर देओ विदा की सेवा तेरी पूर्ण भई 
लव कुश जाती कर देओ विदा की सेवा तेरी पूर्ण भई 
माथे मैया के मुकुट विराजे 
काम मैया के कुंडल पायन मैया के पदम् विराजे 
हाथ मैया के झंडी विराजे  की सेवा तेरी पूर्ण भई  
धानु भगत जाती कर देओ विदा की सेवा तेरी पूर्ण भई 

 

 माता के सोने के गीत 

भवन बिच सोई  है भोली माँ 
कहे की मैया तेरी चन्दन पलकिया काहे बान बुनाये 
अमन चन्दन की मैया चन्दन पलकिया 
रेशम के बान बुनाए 
रेशम की मैया नरम गेदुआ 
मखमल की सौर भराए 
व्यार करता मैया बैया दुखत है रात जगत दौ नैन 
 चुपद चढ़ाऊ तेरी नरम कलैया कजरा भरू दोउ नैन

Tag-माता के सोने तथा विदाई के गीत - Mata ke Sone Ttatha Vidaai Ke Geet




Post a Comment