Ads (728x90)



माता कात्यायनी मां दुर्गा का छटवां शक्ति स्वरूप है ऐसा माना जाता है की इनके पूजन से अद्भुत शक्ति का संचार होता है व दुश्मनों का संहार करने में माता कात्यायनी अपने भक्तों को सक्षम बनाती हैं इनका ध्यान गोधुली बेला में करना चाहिए इसनवरात्री -माता कात्यायनी मंत्र तथा स्तोत्र पाठ - Navratri-Mata  Katyaynihyan Mantra tatha Stotr Paath आराधना  

नवरात्री -माता कात्यायनी मंत्र तथा स्तोत्र पाठ - Navratri-Mata  Katyaynihyan Mantra tatha Stotr Paath

चन्द्रहासोज्जवलकरा शार्दूलावरवाहना।
कात्यायनी शुभं दद्यादेवी दानव घातिनी॥“

 या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कात्यायनी रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

वन्दे वांछित मनोरथार्थ चन्द्रार्घकृत शेखराम्।
सिंहरूढ़ा चतुर्भुजा कात्यायनी यशस्वनीम्॥

स्वर्णाआज्ञा चक्र स्थितां षष्टम दुर्गा त्रिनेत्राम्।
वराभीत करां षगपदधरां कात्यायनसुतां भजामि॥

पटाम्बर परिधानां स्मेरमुखी नानालंकार भूषिताम्।
मंजीर, हार, केयूर, किंकिणि रत्नकुण्डल मण्डिताम्॥

प्रसन्नवदना पञ्वाधरां कांतकपोला तुंग कुचाम्।
कमनीयां लावण्यां त्रिवलीविभूषित निम्न नाभिम॥

 माता  कात्यायनी का स्तोत्र पाठ

 कंचनाभा वराभयं पद्मधरा मुकटोज्जवलां।
स्मेरमुखीं शिवपत्नी कात्यायनेसुते नमोअस्तुते॥

पटाम्बर परिधानां नानालंकार भूषितां।
सिंहस्थितां पदमहस्तां कात्यायनसुते नमोअस्तुते॥

परमांवदमयी देवि परब्रह्म परमात्मा।
परमशक्ति, परमभक्ति,कात्यायनसुते नमोअस्तुते॥

देवी कात्यायनी की कवच :

कात्यायनी मुखं पातु कां स्वाहास्वरूपिणी।
ललाटे विजया पातु मालिनी नित्य सुन्दरी॥

कल्याणी हृदयं पातु जया भगमालिनी॥


 Tag-नवरात्री -माता कात्यायनी मंत्र तथा स्तोत्र पाठ - Navratri-Mata  Katyaynihyan Mantra tatha Stotr Paath




Post a Comment