शादी में सात फेरों के सात वचन और उनका महत्व - Significance of 7 Vows in Indian Marriages

Seven Vows in Hindi, Seven Vows of Hindu Wedding, Saat Pheras, Significance of 7 pheras in wedding, Understanding The Seven Vows Of A Hindu Wedding, Why in Indian Hindu wedding, 'Saat fere' Seven rounds

शादी के समय कौन से सात वचन ( Saat Vachan ) कन्या अपने पति को देती है? हिन्दू विवाह पद्धति में सात फेरे और सात वचन होते हैं अगर इन सातों वचनों को जीवन भर निभाया जाए तो वैवाहिक जीवन हमेशा सुखमय रहेगा वर और वधु विवाह के समय एक-दूसरे से सात वचन ( Saat Vachan ) लेते हैं, ज्यादातर लोगों ने सात वचनों के बारे में सुना तो है लेकिन इन सात वचनों के बारे में कम हीं लोग जानते हैं तो आइए जानते हैं वे शादी में सात फेरों के सात वचन और उनका महत्व - Saat Pheron Ke Saat Vachan Ka Mahatva 




शादी में सात फेरों के सात वचन और उनका महत्व - Significance of 7 Vows in Indian Marriages


हमारे हिन्दू धर्म में 16 संस्कार होते है उनमे से विवाह संस्कार को भी स्थान दिया गया है पाणिग्रहण संस्कार को सामान्य रूप से हिंदू विवाह के नाम से जाना जाता है। अन्य धर्मों में विवाह पति और पत्नी के बीच एक प्रकार का करार होता है जिसे कि विशेष परिस्थितियों में तोड़ा भी जा सकता है, परंतु हिंदू विवाह पति और पत्नी के बीच कई जन्मो का सम्बंध होता है जिसे किसी भी परिस्थिति में नहीं तोड़ा जा सकता। विवाह के साथ एक नए जीवन का आरम्भ होता है हमारे हिंदू विवाह में पति और पत्नी के बीच शारीरिक संम्बंध से अधिक आत्मिक संम्बंध होता है और इस संम्बंध को अत्यंत पवित्र माना गया है -

शादी में सात फेरों के सात वचन और उनका महत्व -

पहला वचन

तीर्थव्रतोद्यापन यज्ञकर्म मया सहैव प्रियवयं कुर्या:,
वामांगमायामि तदा त्वदीयं ब्रवीति वाक्यं प्रथमं कुमारी !!

 प्रथम वचन में  कन्या वर से कहती है कि यदि आप कभी तीर्थयात्रा को जाओ तो मुझे भी अपने संग लेकर जाना कोई व्रत-उपवास अथवा अन्य धर्म कार्य आप करें तो आज की भांति ही मुझे अपने वाम भाग में अवश्य स्थान दें। यदि आप इसे स्वीकार करते हैं तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ 

दूसरा वचन

पुज्यौ यथा स्वौ पितरौ ममापि तथेशभक्तो निजकर्म कुर्या:,
वामांगमायामि तदा त्वदीयं ब्रवीति कन्या वचनं द्वितीयम !!

 कन्या वर से दूसरा वचन मांगती है कि जिस प्रकार आप अपने माता-पिता का सम्मान करते हैं, उसी प्रकार मेरे माता-पिता का भी सम्मान करें तथा कुटुम्ब की मर्यादा के अनुसार धर्मानुष्ठान करते हुए ईश्वर भक्त बने रहें तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ 

तीसरा वचन

जीवनम अवस्थात्रये मम पालनां कुर्यात,
वामांगंयामि तदा त्वदीयं ब्रवीति कन्या वचनं तृ्तीयं !!

तीसरे वचन में कन्या कहती है कि आप मुझे ये वचन दें कि आप जीवन की तीनों अवस्थाओं (युवावस्था, प्रौढावस्था, वृद्धावस्था) में मेरा पालन करते रहेंगे, तो ही मैं आपके वामांग में आने को तैयार हूँ 

चौथा वचन

कुटुम्बसंपालनसर्वकार्य कर्तु प्रतिज्ञां यदि कातं कुर्या:,
वामांगमायामि तदा त्वदीयं ब्रवीति कन्या वचनं चतुर्थं !!

 कन्या चौथा वचन ये माँगती है कि अब तक आप घर-परिवार की चिन्ता से पूर्णत: मुक्त थे। अब जबकि आप विवाह बंधन में बँधने जा रहे हैं तो भविष्य में परिवार की समस्त आवश्यकताओं की पूर्ति का दायित्व आपके कंधों पर है। यदि आप इस भार को वहन करने की प्रतीज्ञा करें तो ही मैं आपके वामांग में आने को तैयार हूँ। विवाह पश्चात कुटुम्ब पौषण हेतु पर्याप्त धन की आवश्यकता होती है। इस वचन द्वारा यह स्पष्ट है कि पुत्र का विवाह तभी करना चाहिए जब वो अपने पैरों पर खडा हो, पर्याप्त मात्रा में धनार्जन करने लगे 

पांचवा वचन

स्वसद्यकार्ये व्यवहारकर्मण्ये व्यये मामापि मन्त्रयेथा,
वामांगमायामि तदा त्वदीयं ब्रूते वच: पंचमत्र कन्या !!

इस वचन में कन्या जो कहती है वो आज के परिपेक्ष में अत्यंत महत्व रखता है। वो कहती है कि अपने घर के कार्यों में, विवाहादि, लेन-देन अथवा अन्य किसी हेतु खर्च करते समय यदि आप मेरी भी मन्त्रणा लिया करें तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ 

छठा वचन

न मेपमानमं सविधे सखीनां द्यूतं न वा दुर्व्यसनं भंजश्चेत,
वामाम्गमायामि तदा त्वदीयं ब्रवीति कन्या वचनं च षष्ठम !!

 कन्या कहती है कि यदि मैं अपनी सखियों अथवा अन्य स्त्रियों के बीच बैठी हूँ तब आप वहाँ सबके सम्मुख किसी भी कारण से मेरा अपमान नहीं करेंगे। यदि आप जुआ अथवा अन्य किसी भी प्रकार के दुर्व्यसन से अपने आप को दूर रखें तो ही मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ 

सांतवा वचन 

परस्त्रियं मातृसमां समीक्ष्य स्नेहं सदा चेन्मयि कान्त कुर्या,
वामांगमायामि तदा त्वदीयं ब्रूते वच: सप्तममत्र कन्या !!

अन्तिम वचन के रूप में कन्या ये वर मांगती है कि आप पराई स्त्रियों को माता के समान समझेंगें और पति-पत्नि के आपसी प्रेम के मध्य अन्य किसी को भागीदार न बनाएंगें। यदि आप यह वचन मुझे दें तो ही मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूँ

Tag - Seven Vows in Hindi, Seven Vows of Hindu Wedding, Saat Pheras, Significance of 7 pheras in wedding, Understanding The Seven Vows Of A Hindu Wedding, Why in Indian Hindu wedding, 'Saat fere' Seven rounds

COMMENTS

Name

16-Shringar,21,aarti,13,Anant Chaturdashi,1,Badhai-Geet,4,banne-ke-geet,11,banni-ke-geet,9,Barat-Song,3,Beauty-Tips,13,Best-Shadi-Tips-Hindi,15,bhajan,41,Bhat-ke-Geet,10,bidai-song,9,Chalisa,5,engagement-ceremony,3,feron-ke-geet,3,Ganesh Chaturthi,4,ganesh-geet,4,Gangaur,3,ghodi-ke-geet,4,haldi-song-hindi,5,Health-Benefits,2,hindi shaadi wedding songs,33,Holi-song,12,indian wedding songs,14,Janmashtami Special,1,katha,2,kundli,1,Lagan Geet,1,mahila-sangeet,25,Makeup-Tips,4,mehndi geet,3,Movie-song,18,Navratri,28,sawan-ke-geet,2,Shaadi-Card,2,shadi sangeet,36,Shadi-tech-tips,16,shiv-bhajan,11,Vrat-Tyohar,21,Wedding-Preparations,14,
ltr
item
Shaadi Sangeet - शादी संगीत: शादी में सात फेरों के सात वचन और उनका महत्व - Significance of 7 Vows in Indian Marriages
शादी में सात फेरों के सात वचन और उनका महत्व - Significance of 7 Vows in Indian Marriages
Seven Vows in Hindi, Seven Vows of Hindu Wedding, Saat Pheras, Significance of 7 pheras in wedding, Understanding The Seven Vows Of A Hindu Wedding, Why in Indian Hindu wedding, 'Saat fere' Seven rounds
https://4.bp.blogspot.com/-yYHHoNJaoPg/WFTyEFNAXuI/AAAAAAAAPBY/8h5upL5DhDcPfSZbU2f2EFBIs8EesX9AQCLcB/s640/wedding%2B-indian.jpg
https://4.bp.blogspot.com/-yYHHoNJaoPg/WFTyEFNAXuI/AAAAAAAAPBY/8h5upL5DhDcPfSZbU2f2EFBIs8EesX9AQCLcB/s72-c/wedding%2B-indian.jpg
Shaadi Sangeet - शादी संगीत
https://www.shaadisangeet.net/2016/12/seven-vachans-of-hindu-marriage-in-hindi.html
https://www.shaadisangeet.net/
https://www.shaadisangeet.net/
https://www.shaadisangeet.net/2016/12/seven-vachans-of-hindu-marriage-in-hindi.html
true
1275128782169776740
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy