16 श्रृंगार - सिंदूर का महत्व - 16 Shringar Me Sindoor Ka Mahatva

16 श्रृंगार - सिंदूर (Sindoor) - सिंदूर को स्त्रियों का सुहाग चिन्ह माना जाता है ऐसा माना जाता है की  मांग में सिंदूर लगाने से पति की आयु लम्बी होती है  16 श्रृंगार में सिंदूर (Sindoor)  का बहुत महत्वपूर्ण स्थान है आइये जानते है 16 श्रृंगार में सिंदूर का महत्व- Importance of Sindoor in 16 Shringar -


16 श्रृंगार में सिंदूर का महत्व- Importance of Sindoor in 16 Shringar

यह भी पढ़े -


विवाह में फेरों के समय वर द्वारा वधू की मांग मे सिंदूर भरा जाता है इसके बाद विवाहिता स्त्री अपने पति के जीवित रहने तक अपनी मांग में सिन्दूर भरती है सिंदूर नारी के 16 श्रंगार का एक महत्वपूर्ण  अंग है सिंदूर मंगल-सूचक भी होता है विज्ञान में भी सिंदूर का महत्व  बताया गया है।

सिंदूर में पारा जैसी धातु अधिक होनेके कारण चेहरे पर जल्दी झुर्रियां नहीं पडती साथ ही इससे स्त्री का मन नियंत्रित होती है मांग में जहां सिंदूर भरा जाता है, वह स्थान ब्रारंध्र और अध्मि नामक मर्म के ठीक ऊपर होता है सिंदूर मर्म स्थान को बाहरी बुरे प्रभावों से भी बचाता है। शास्त्रों में अभागिनी स्त्री के दोष निवारण के लिए मांग में सिंदूर भरने की सलाह दी गई है सिंदूर को मां पार्वती की शक्ति का प्रतीक माना जाता है भारतीय समाज में मांग में सिंन्दूर भरना स्त्रीयों के लिए सुहागिन होने की निशानी माना जाता है

Tag - Significance of Sindoor for an Indian Married Woman in Hindi, how to apply sindoor stick, Important Significance of Kumkum or Vermilion

Comments