गणगौर पूजन व्रत कथा - Gangaur Poojan Vrat Katha

गणगौर पूजन व्रत कथा - Gangaur Poojan Vrat Katha ,Gangaur Festival 2017, What is Gangaur, Festival ,Hindu Religion , Festivals and Kathayen: Gangaur Vrat Katha,gangaur festival details,Gangaur Festival,gangaur festival history,Gangaur 2017,Gangaur vrat katha

हमारे समाज में चैत्र मास शुक्ल पक्ष  नवरात्री की तृतीया के दिन गणगौर पर्व के रूप में मनाया जाता है यह पर्व बड़े ही हर्सोल्लास के साथ मनाया जाता है इस दिन माता गण यानी शिव तथा गौर यानि माता माता पार्वती का पूजन किया जाता है यह व्रत पति की लम्बी आयी तथा सौभाग्य के लिए किया जाता है इस दिन सभी महिलाए गणगौर का व्रत तह पूजा करती है आइये आज हम आपको बताते है  गणगौर पूजन विधि तथा महत्व और व्रत   कथा - Gangaur Poojan Vrat Katha

 Gangaur Poojan Vrat Katha

 गणगौर पूजन व्रत कथा - Gangaur Poojan Vrat Katha 

 एक बार की बात है भगवान शंकर तथा पार्वतीजी नारदजी के साथ भ्रमण को गये। चलते-चलते वे चैत्र शुक्ल तृतीया के दिन एक गहरे वन में पहुँच गए। उनके आगमन का समाचार सुनकर गाँव की श्रेष्ठ कुलीन स्त्रियाँ उनके स्वागत के लिए स्वादिष्ट भोजन बनाने लगीं मगर भोजन बनाते-बनाते उन्हें काफी विलंब हो गया। साधारण कुल की स्त्रियाँ तब भी श्रेष्ठ कुल की स्त्रियों से पहले ही थालियों में हल्दी और अक्षत लेकर पूजन हेतु पहुँच गईं। पार्वतीजी ने उनके पूजा भाव को स्वीकार किया और सारा सुहाग रस उन पर छिड़क दिया। वे अटल सुहाग प्राप्ति का वरदान पाकर लौटीं 

तत्पश्चात उच्च कुल की स्त्रियाँ अनेक प्रकार के पकवान लेकर गौरीजी और शंकरजी की पूजा करने पहुँचीं। सोने-चाँदी से निर्मित उनकी थालियों में विभिन्न प्रकार के पदार्थ थे। उन स्त्रियों को देखकर भगवान शंकर ने पार्वतीजी से कहा- 'तुमने सारा सुहाग रस तो साधारण कुल की स्त्रियों को ही दे दिया। अब इन्हें क्या दोगी?' पार्वतीजी ने उत्तर दिया- 'प्राणनाथ! आप इसकी चिंता मत कीजिए। उन स्त्रियों को मैंने केवल ऊपरी पदार्थों से बना रस दिया है। परंतु मैं इन उच्च कुल की स्त्रियों को अपनी उँगली चीरकर अपने रक्त का सुहाग रस दूँगी। यह सुहाग रस जिसके भाग्य में पड़ेगा, वह तन-मन से मुझ जैसी सौभाग्यवती हो जाएगी।'

जब स्त्रियों ने पूजन समाप्त कर दिया, तब पार्वतीजी ने अपनी उँगली चीरकर उन पर छिड़क दी। जिस पर जैसा छींटा पड़ा, उसने वैसा ही सुहाग पा लिया। तत्पश्चात भगवान शिव की आज्ञा से पार्वतीजी ने नदी तट पर स्नान किया और बालू की शिव-मूर्ति बनाकर पूजन करने लगीं। पूजन के बाद बालू के पकवान बनाकर शिवजी को भोग लगाया।

प्रदक्षिणा करके नदी तट की मिट्टी से माथे पर तिलक लगाकर दो कण बालू का भोग लगाया। इतना सब करते-करते पार्वती को काफी समय लग गया। काफी देर बाद जब वे लौटकर आईं तो महादेवजी ने उनसे देर से आने का कारण पूछा। उत्तर में पार्वतीजी ने झूठ ही कह दिया कि, 'वहाँ मेरे भाई-भावज आदि मायके वाले मिल गए थे। उन्हीं से बातें करने में देर हो गई'। परंतु महादेव तो महादेव ही थे। वे कुछ और ही लीला रचना चाहते थे। अतः उन्होंने पूछा- 'पार्वती! तुमने नदी के तट पर पूजन करके किस चीज का भोग लगाया था और स्वयं कौन-सा प्रसाद खाया था?' स्वामी! पार्वतीजी ने पुनः झूठ बोल दिया- 'मेरी भावज ने मुझे दूध-भात खिलाया। उसे खाकर मैं सीधी यहाँ चली आ रही हूँ।' यह सुनकर शिवजी भी दूध-भात खाने की लालच में नदी-तट की ओर चल दिए। पार्वती दुविधा में पड़ गईं। तब उन्होंने मौन भाव से भगवान भोले शंकर का ही ध्यान किया और प्रार्थना की - हे भगवन! यदि मैं आपकी अनन्य दासी हूँ तो आप इस समय मेरी लाज रखिए' 

यह प्रार्थना करती हुई पार्वतीजी भगवान शिव के पीछे-पीछे चलती रहीं। उन्हें दूर नदी के तट पर माया का महल दिखाई दिया। उस महल के भीतर पहुँचकर वे देखती हैं कि वहाँ शिवजी के साले तथा सलहज आदि सपरिवार उपस्थित हैं। उन्होंने गौरी तथा शंकर का भाव-भीना स्वागत किया। वे दो दिनों तक वहाँ रहे। तीसरे दिन पार्वतीजी ने शिव से चलने के लिए कहा, पर शिवजी तैयार न हुए। वे अभी और रुकना चाहते थे। तब पार्वतीजी रूठकर अकेली ही चल दीं। ऐसी हालत में भगवान शिवजी को पार्वती के साथ चलना पड़ा। नारदजी भी साथ-साथ चल दिए। चलते-चलते वे बहुत दूर निकल आए। उस समय भगवान सूर्य अपने धाम (पश्चिम) को पधार रहे थे। अचानक भगवान शंकर पार्वतीजी से बोले- 'मैं तुम्हारे मायके में अपनी माला भूल आया हूँ 

'ठीक है, मैं ले आती हूँ।' - पार्वतीजी ने कहा और जाने को तत्पर हो गईं। परंतु भगवान ने उन्हें जाने की आज्ञा न दी और इस कार्य के लिए ब्रह्मपुत्र नारदजी को भेज दिया। परंतु वहाँ पहुँचने पर नारदजी को कोई महल नजर न आया। वहाँ तो दूर तक जंगल ही जंगल था, जिसमें हिंसक पशु विचर रहे थे। नारदजी वहाँ भटकने लगे और सोचने लगे कि कहीं वे किसी गलत स्थान पर तो नहीं आ गए? मगर सहसा ही बिजली चमकी और नारदजी को शिवजी की माला एक पेड़ पर टँगी हुई दिखाई दी। नारदजी ने माला उतार ली और शिवजी के पास पहुँचकर वहाँ का हाल बताया। शिवजी ने हँसकर कहा- 'नारद! यह सब पार्वती की ही लीला है।' इस पर पार्वती बोलीं- 'मैं किस योग्य हूँ।'

तब नारदजी ने सिर झुकाकर कहा- 'माता! आप पतिव्रताओं में सर्वश्रेष्ठ हैं। आप सौभाग्यवती समाज में आदिशक्ति हैं। यह सब आपके पतिव्रत का ही प्रभाव है। संसार की स्त्रियाँ आपके नाम-स्मरण मात्र से ही अटल सौभाग्य प्राप्त कर सकती हैं और समस्त सिद्धियों को बना तथा मिटा सकती हैं। तब आपके लिए यह कर्म कौन-सी बड़ी बात है?' महामाये! गोपनीय पूजन अधिक शक्तिशाली तथा सार्थक होता है।

आपकी भावना तथा चमत्कारपूर्ण शक्ति को देखकर मुझे बहुत प्रसन्नता हुई है। मैं आशीर्वाद रूप में कहता हूँ कि जो स्त्रियाँ इसी तरह गुप्त रूप से पति का पूजन करके मंगलकामना करेंगी, उन्हें महादेवजी की कृपा से दीर्घायु वाले पति का साथ मिलेगा 

Tag-गणगौर पूजन व्रत कथा - Gangaur Poojan Vrat Katha 

COMMENTS

Name

16-Shringar,21,aarti,11,Badhai-Geet,4,banne-ke-geet,11,banni-ke-geet,9,Barat-Song,3,Beauty-Tips,13,Best-Shadi-Tips-Hindi,15,bhajan,39,Bhat-ke-Geet,10,bidai-song,9,Chalisa,5,engagement-ceremony,3,feron-ke-geet,3,ganesh-geet,2,Gangaur,3,ghodi-ke-geet,4,haldi-song-hindi,5,Health-Benefits,2,hindi shaadi wedding songs,33,Holi-song,12,indian wedding songs,14,Janmashtami Special,1,katha,2,kundli,1,Lagan Geet,1,mahila-sangeet,25,Makeup-Tips,4,mehndi geet,3,Movie-song,18,Navratri,28,sawan-ke-geet,2,Shaadi-Card,2,shadi sangeet,36,Shadi-tech-tips,16,shiv-bhajan,11,Vrat-Tyohar,17,Wedding-Preparations,14,
ltr
item
Shaadi Sangeet - शादी संगीत: गणगौर पूजन व्रत कथा - Gangaur Poojan Vrat Katha
गणगौर पूजन व्रत कथा - Gangaur Poojan Vrat Katha
गणगौर पूजन व्रत कथा - Gangaur Poojan Vrat Katha ,Gangaur Festival 2017, What is Gangaur, Festival ,Hindu Religion , Festivals and Kathayen: Gangaur Vrat Katha,gangaur festival details,Gangaur Festival,gangaur festival history,Gangaur 2017,Gangaur vrat katha
https://1.bp.blogspot.com/-9Eb59rx1yDk/WNt8g62yNbI/AAAAAAAAAiQ/FQc4rV79pmEXyHxnYRhJFPmqMadEV7hBgCLcB/s640/Gangaur-Poojan-Vrat-Katha.JPG
https://1.bp.blogspot.com/-9Eb59rx1yDk/WNt8g62yNbI/AAAAAAAAAiQ/FQc4rV79pmEXyHxnYRhJFPmqMadEV7hBgCLcB/s72-c/Gangaur-Poojan-Vrat-Katha.JPG
Shaadi Sangeet - शादी संगीत
https://www.shaadisangeet.net/2017/03/gangaur-poojan-vrat-katha.html
https://www.shaadisangeet.net/
https://www.shaadisangeet.net/
https://www.shaadisangeet.net/2017/03/gangaur-poojan-vrat-katha.html
true
1275128782169776740
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy